लक्ष्मी पूजन के लिए चमकानी है पूजा की थाली? यूं लौटेगी चांदी की लाली!

लक्ष्मी पूजन के लिए लक्ष्मी-गणेश की चांदी की मूर्तियों को चाहते हैं चमकाना? तो इन टिप्स को एक बार ज़रूर आज़माना ताकि घर आए मेहमान ढूंढें आपके घर दोबारा आने का बहाना!

अपडेट किया गया

लक्ष्मी पूजन के लिए पूजा की थाली को कैसे चमकाएं । गेट सेट क्लीन
विज्ञापन
Nature Protect Floor Cleaner - leaderboard

लक्ष्मी पूजन के दिन आप लक्ष्मी-गणेश की प्रतिमा की पूजा करते हैं। चांदी की होने की वजह से ये कई बार काली पड़ जाती हैं। ऐसे में इन्हें इन नुस्खों से चमका सकते हैं। इसके साथ ही आप पूजा की थाली की भी लाली वापस ला सकते हैं। कैसे? चलिए, जानते हैं।

चांदी, पीतल या तांबा को पानी से धोने के तुरंत बाद सूखे कपड़े से पोंछें वरना इस पर पानी का दाग़ लग सकता है।

१) चांदी की मूर्ति या सिक्के ऐसे चमकाएं

गर्म पानी

चांदी की मूर्ति पर लगे काले दाग़ को साफ़ करने के लिए पतीले में २ ग्लास पानी लें। इसे गर्म करें जब यह गुनगुना हो जाए तो इसमें एल्युमिनियम फॉयल के कुछ टुकड़े डालें। अब इसमें चांदी की मूर्ति या सिक्के डाल दें। चांदी चमकने लगेगी।

विज्ञापन

Nature Protect Floor Cleaner - mpu

इमली

बाउल में इमली को क़रीब आधे घंटे के लिए भिगोकर रखें। अब पानी में इमली को अच्छी तरह मसलें। इस पानी में चांदी को रखकर इमली से रगड़कर साफ़ करें। इससे चांदी की चमक देखने लायक होगी। 

२) पीतल के दीयों को इस प्रकार चमकाएं

नींबू और नमक

पीतल के दीये से दाग़ को हटाने के लिए आधा नींबू लें और छोटे प्लेट में ३ चम्मच नमक। अब नींबू में नमक लगा कर दीये या लोटे को ५ मिनट तक घिसें। अब साफ़ पानी से दीये और लोटे को धोएं। आपका दीया और लोटा दोनों चमकने लगेगा।

विनेगर

बाउल में १ कप विनेगर लें और दूसरे बाउल में ४ चम्मच नमक। पहले विनेगर को लोटे और दीये पर लगाएं फिर नमक को उसके चारों तरफ लगा दें। अब स्क्रबर से लोटे या दीये को रगड़ें। फिर साफ़ पानी से धोएं।

३) तांबे की थाली और लोटे से दाग़ हटाएं

पूजा के दिन इस्तेमाल होने वाली पूजा की थाली और लोटा दोनों तांबे का बना होता है, जो बहुत जल्दी दाग़दार दिखने लगता है। इससे छुटकारा पाने के लिए इस पर टोमैटो केचअप लगाएं और ब्रश से रगड़ें। इससे थाली और लोटा दाग़ मुक्त हो जाएंगे।

देखा, तो हो गई ना मूर्ति और पूजा की थाली दोनों साफ़ तो पूजा के लिए हो जाएं तैयार!

मूल रूप से प्रकाशित